राहुल का दिन: कभी मधुमक्खी कभी पुलिस ने रोका, बाइक से की सवारी

NEW DELHI: सुबह एमपी पुलिस को छकाने में कामयाब रहे राहुल गांधी बाद में पहले मधुमक्खियों से और फिर पुलिस की रणनीति से मात खा गए। खेत के रास्ते पैदल मंदसौर जा रहे राहुल को मधुमक्खियों ने रोका और वहीं पर पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया।

मृतकों के परिजनों से मिलने की जिद पर अड़े राहुल 4 घंटे हिरासत में रहने के बाद राहुल जमानत लेकर राजस्थान रवाना हो गए, जहां उन्होंने मृतकों के परिजनों से मुलाकात की। राहुल को रोकने के लिए राजस्थान की बॉर्डर पर नयागांव बैरियर पर भारी पुलिस बंदोबस्त किया गया था। यहां उज्जैन आईजी मधुकुमार, नीमच एसपी मनोज शर्मा, प्रभारी कलेक्टर सोनाली भिड़े सहित पुलिस और प्रशासन का पूरा अमला तैनात था। पुलिस को उम्मीद थी कि राहुल नयागांव के रास्ते आएंगे, लेकिन उन्होंने बीच में ही रास्ता बदल दिया। अपनी प्लानिंग के मुताबिक वे विधायक धीरज गुर्जर की बाइक से मंदसौर के लिए निकले।

राजस्थान-मध्यप्रदेश की बॉर्डर पर स्थित बांगेड़ा चौकी तक बाइक से ही आए। यहां पर पुलिस ने सबको रोक दिया तो राहुल पैदल ही आगे बढ़ गए। करीब तीन किलोमीटर पैदल चलकर नयागांव बैरियर पहुंचे। यहां उन्हें रोकने की कोशिश हुई तो वे खेत में चल दिए। खेतों से गुजरते समय राहुल गांधी एक पेड़ के नीचे पहुंचे। पेड़ हिलने से उसमें लगे छत्ते पर बैठीं मधुमक्खियां उड़ने लगीं और उन्होंने राहुल सहित कांग्रेस नेताओं को काट लिया। इससे नेता घबरा गए। पुलिसकर्मी व कार्यकर्ता राहुल को मधुमक्खियों से बचाने में जुट गए। फिर यहीं पर जहां उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद उन्हें सीमेंट फैक्टरी के गेस्ट हाउस में ले जाया गया।

राहुल जिद पर अड़े थे कि वे मृतकों के परिजनों से मिले बना ना तो जमानत लेंगे ना वापस जाएंगे, लेकिन शाम होते-होते पुलिस अधिकारी उन्हें समझाने में कामयाब रहे, जिसके चलते उन्होंने गेस्ट हाउस में जमानत ले ली। एसपी नीमच मनोजसिंह ने बताया कि राहुल सहित करीब 30 लोगों को हिरासत में लिया गया था। जमानत के बाद पुलिस ने गेस्ट हाउस में ही इन्हें रिहा कर दिया।

.

संदर्भ पढ़ें
खबर विस्तार से पढ़ें
जबसे आपने पढ़ा हैं तो UC News डाउनलोड करें
हॉट कमैंट्स
और कॉमेंट्स पढ़े
--
नहीं
हां
लड़की ने भीख मांगने वाली से कहा - आंटी मुझे रख लो, मैं घर नहीं जाना चाहती-जानिए क्यूँ
youtube.com